भूमि की उत्‍पादन क्षमता बढाने में जैव उर्वरकों का महत्‍व

रासायनिक उर्वरकों के प्रयोग से उपज में वृद्धि तो होती है परन्‍तू अधिक प्रयोग से मृदा की उर्वरता तथा संरचना पर भी प्रतिकूल प्रभाव पडता है इसलिए रासायनिक उर्वरकों (Chemical fertilizers) के साथ साथ जैव उर्वरकों (Bio-fertilizers) के प्रयोग की सम्‍भावनाएं बढ रही हैं।

जैव उर्वरकों के प्रयोग से फसल को पोषक तत्‍वों की आपूर्ति होने के साथ मृदा उर्वरता भी स्थिर बनी रहती है। जैव उर्वकों का प्रयोग रासायनिक उर्वरकों के साथ करने से रासायनिक उर्वकों की क्षमता बढती है जिससे उपज में वृद्धि होती है। 

सींग खाद

भूमि के लिए एक उत्तम वरदान (पूनम पर देसी खाद बनाने की विधि)
१. गाय, बैल के सींगों के ढेर में से गाय के सींगों की पहचान इस बात से करनी चाहिए कि गाय के प्रत्येक बछड़े के जन्म पर उसकी सींग के ऊपर एक गोल चक्र (सर्कल) उभरता है l
२. खुले आकाश के नीचे जहाँ बाहर से पानी का बहाव न हो तथा पेड़ की छाया या मूल (जड़) अथवा केंचुए न हों, ऐसी जगह पर २ फुट लम्बा, २ फुट गहरा और २ फुट चौड़ा गड्ढा करें l

बायो गैस घोल

बायो गैस संयंत्र में जीवाणुओं द्वारा गोबर के अवातीय विघटन से प्राप्त घोल की खाद की उर्वरक क्षमता , सवातीय विघटन द्वारा उत्पन्न खाद के मुकाबले में अधिक उपयोगी है . इसमे पानी की अधिक (% 90) के कारण इसे निर्जलीकरण की आवश्यकता होती है मात्रा , यह प्रक्रिया धुप में सुखाने से लेकर यांत्रिक क्रियाओ जिनसे विभिन्न तरीकों से संपन्न की है जाती .

1. रेत की तह का घोल को सुखाने , अवसादन और अवशोषण तथा शुष्क कार्बनिक कचरा और उसके निश्यन्दन में प्रयोग को काफी उपयोगी पाया है गया .

Pages